Tehsildar | तहसीलदार कैसे बने ? exam, syllabus and much more

तहसीलदार एक प्रशासनिक अधिकारी होता है , जो राज्य के तहसील का राजस्व संबंधी विभाग और कार्य को संभालता व निरीक्षण और परीक्षण करता है। तहसील राज्य के जिलों मे एक प्रशासनिक इकाई अथवा प्रखण्ड को कहते है। एक तहसीलदार की नियुक्ति संबंधित राज्य के द्वारा किया जाता है। तहसीलदार को अंग्रेजी में tehsildar ही बोला जाता है।

तहसीलदार की शक्तियां और कार्य | Power of Tehsildar

तहसीलदार अपने तहसील का राजस्व विभाग और प्रशासन में प्रमुख अधिकारी के रूप में कार्य करता है। तहसीलदार को नायाब तहसीलदार भी कहा जाता है। तहसीलदार को उप रजिस्ट्रार का भी पद संभालना होता है। तहसीलदार का मुख्य एवं प्रमुख कार्य पर्यवेक्षण और राजस्व संग्रह करना है। इसके साथ-साथ तहसीलदार विकास योजनाओं, फुटपाथ के निर्माण व निष्पादन,सड़कों के निर्माण, मिट्टी संरक्षण और सुधार,नालियों और तटबंधों के निर्माण में भी सहायता करते हैं।इसके अलावा भूमि से संबंधित विवाद को सुनना और सुनकर समस्या का हल निकालना, भूमि राज्यों का समुचित संग्रह कर यह  सुनिश्चित करना  कि किसान अपनी भूमि का रिकॉर्ड कभी भी आसानी से प्राप्त कर सके ,पटवारी द्वारा किए कार्यो का निरीक्षण एवं परीक्षण करना और यह सुनिश्चित करना कि भूमि के अपडेट को सही से रखा गया है या नही, किसी भी प्राकृतिक आपदा अथवा बाधाओं से होने वाली जान माल हानि को देखते हुए तत्काल राहत सेवा अभियान प्रारम्भ करना भी तहसीलदार के कार्य का ही हिस्सा है।

तहसीलदार बनने की योग्यता (Qualification of Tehsildar)

तहसीलदार बनने के लिए प्रतिभागियों को किसी भी राज्य अथवा केन्द्रीय विश्वविद्यालय से स्नातक (graduation) पास होना अनिवार्य है। तभी वे इस प्रतियोगिता में भाग लें पाएंगे।

तहसीलदार बनने की आयु सीमा

तहसीलदार बनने के लिए अधिकतम आयु सीमा 45 वर्ष और न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष है। आयु में छूट की सीमा राज्य सरकार के संहिताओ के अनुसार होती है।

तहसीलदार परीक्षा का ढांचा (Tehsildar Exam Pattern)

तहसीलदार की नियुक्ति राज्य सरकार के द्वारा एक परीक्षा के माध्यम से की जाती है।यह परीक्षा तीन चरणो से होकर गुजरती है।

1st चरण: जांच परीक्षा (Screening Test)

इस परीक्षा के अंतर्गत सामान्य ज्ञान से संबंधित बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते है।

इस परीक्षा में २ पेपर होते है। जो इस प्रकार है –
१) सामान्य ज्ञान – इसमें सामान्य ज्ञान के राष्ट्रीय , अंतर्राष्ट्रीय एवं राज्य से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है। इनमे अलावा हिंदी और कुछ आयोग ,के प्रश्न भी पूछे जाते है । इस पेपर में कुल १०० प्रश्न पूछे जाते है।
२) सीसैट पेपर- इस पेपर में बोधगम्यता ,पारस्परिक और संचार कौशल,तार्किक और विश्लेषणात्मक तर्क,निर्णय लेना,मूल संख्या,सामान्य मानसिक क्षमता से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है।

इस परीक्षा में पास होने पर ही दूसरे चरण में बैठने की अनुमति मिलती है।

2nd चरण: मुख्य परीक्षा (Main Exam)

इस परीक्षा के अंतर्गत राज्य, सरकार,और सामान्य ज्ञान से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है। जो लिखित रूप में होते है। इसमें प्रश्न उत्तर के रूप में लिखित परीक्षा होती है।इस परीक्षा में पास होने पर ही तीसरे चरण में प्रवेश मिलता है।

3rd चरण: इंटरव्यू (Interview)

यह चरण तहसीलदार की नियुक्ति के लिए परीक्षा का अंतिम चरण होता है।इस चरण मे सफल होने के बाद व्यक्ति की नियुक्ति तहसीलदार के पोस्ट पर हो जाती है।

इन तीनो चरण को पास करने के बाद ही तहसीलदार की नियुक्ति होती है।

तहसीलदार की सैलरी | Tehsildar Salary

एक तहसीलदार का वेतनमान 15600 रू से 39100रू तक होता है और इसके साथ-साथ कई अन्य सुविधाएं जैसे आवास की सुविधा ,कही आने जाने पर यात्रा भत्ता और अन्य भी भत्ते भी मिलते है।

तहसीलदार पोस्ट के अंतर्गत अधिकार

तहसीलदार को भूमि संबंधित किसी भी विषय पर नोटिस जारी करने का अधिकार है। प्रशासनिक व्यवस्था के साथ-साथ कानून व्यवस्था की दृष्टि से भी तहसीलदार संबंधित कार्यक्षेत्र के मजिस्ट्रेट होते हैं। इसलिए तहसीलदार के अधिकार क्षेत्र में निरीक्षण और परीक्षण दोनो ही आते है। यदि  निरीक्षण में कुछ अनुचित पाया जाता है तो तहसीलदार को अपने उच्चाधिकारी के माध्यम से कहने का अधिकार है।

तहसीलदार परीक्षा का सिलेबस | Tehsildar Syllabus

इस परीक्षा का आयोजन सभी राज्य के अपने लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित किया जाता है | जाँच परीक्षा में दो पेपर आते हो जो सामान्य अध्ययन पर आधारित होते है।प्रथम पेपर और द्वितीय पेपर दो प्रश्न पत्र होते है | इस परीक्षा में वैकल्पिक प्रश्न पूछे जाते है | दोनों प्रश्न पत्र मेें 200+200 = 400 अंक के होते है, प्रत्येक प्रश्न पत्र के उत्तर देने के लिए दो घंटे का समय निर्धारित होता है | यदि पहले पेपर को पास कर लेते है, तो मुख्य परीक्षा में सम्मिलित कर लिया जाता है।

प्रथम प्रश्न पत्र

भारत और विश्व का भूगोल: प्राकृतिक, सामाजिक और आर्थिक भूगोल , भारतीय राजनीति और प्रशासन: संविधान, राजनीतिक प्रणाली, पंचायती राज, लोक नीति, अधिकारों के मुद्दे , राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की वर्तमान घटनाएँ, भारत और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का इतिहास , सामान्य विज्ञान, पर्यावरण पारिस्थितिकी, जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन पर ज्वलंत मुद्दे, आर्थिक और सामाजिक विकास: सतत विकास गरीबी समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की पहल आदि |

द्वितीय प्रश्न पत्र

बोधगम्यता (Comprehension Skills), पारस्परिक कौशल वसंचार कौशल , तार्किक शक्ति और विश्लेषणात्मक क्षमता, निर्णय लेने और समस्या को सुलझाने की क्षमता, सामान्य मानसिक योग्यता, सामान्य अंग्रेजी (कक्षा 10 स्तर), सामान्य हिंदी (कक्षा 10 स्तर), प्रारंभिक गणित के अंकगणित, बीजगणित, ज्यामिति और सांख्यिकी (कक्षा 10 स्तर)

मुख्य परीक्षा (Main Exam)

मुख्य परीक्षा में 4 पेपर  होते है, जो इस प्रकार है –

सामान्य अध्ययन पेपर -I , 200 अंक का ,समय 2 घंटे का सामान्य अध्ययन पेपर- II,150 अंक का, समय 2 घंटे का सामान्य हिंदी – 200 अंक का , समय 3 घंटे का
निबंध- 150 अंक का , समय 3 घंटे का


सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र –I

पाठ्यक्रम भारत का इतिहास से सम्बंधित प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक के अंतर्गत आधुनिक इतिहास में उन्नीसवीं सदी के मध्य के भारत और भारतीय संस्कृति के इतिहास के विषय में अधिक ध्यान देना होगा, भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन और भारतीय संस्कृति, भारतीय संदर्भ मेंजनसंख्या , पर्यावरण और शहरीकरण, विश्व भूगोल, भारत का भूगोल और इसके प्राकृतिक संसाधन, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की वर्तमान घटनाएँ , भारतीय कृषि, व्यापार और वाणिज्य, उत्तर प्रदेश के विषय में विशिष्ट ज्ञान जैसे– प्रदेश की शिक्षा, संस्कृति, कृषि, व्यापार , वाणिज्य, सामाजिक रीति-रिवाजों आदि से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है | राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वर्तमान घटनाओं पर प्रश्न रहेंगे तथा खेलकूद से सम्बंधित प्रश्न भी पूछे जाते है |

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र –II 

भारतीय राजनीति के अंतर्गत – भारत और भारतीय संविधान में राजनीतिक प्रणाली |भारतीय अर्थव्यवस्था के अंतर्गत भारत में आर्थिक नीति, सामान्य विज्ञान से सम्बंधित भारत के सन्दर्भ में विज्ञान और प्रौद्योगिकी कीभूमिका और उसके प्रभाव, सामान्य मानसिक योग्यता, सांख्यिकीय विश्लेषण, रेखांकन और चित्र सांख्यिकीय विश्लेषण, रेखांकन और चित्र को समझने की शक्ति |

निबंध लेखन

निबंध के प्रश्न पत्र में तीन भाग होते है, अभ्यर्थी को प्रत्येक भाग से एक टॉपिक का चयन कर प्रत्येक टॉपिक पर 700 शब्दों में निबंध लिखना है, तीनों भागो से पूछे जानें वाले टॉपिक इस क्षेत्र से सम्बंधित होंगे |

भाग 1- (1) साहित्य और संस्कृति (2) सामाजिक क्षेत्र (3) राजनीतिक क्षेत्र |
भाग 2- (1) विज्ञान, पर्यावरण और प्रौद्योगिकी (2) आर्थिक क्षेत्र (3) कृषि, उद्द्योग और व्यापार. |
भाग 3- (1) राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय घटना (2) प्राकृतिक आपदा– लैंड स्लाइड, भूकंप, बाढ़ , सूखा आदि (3) राष्ट्रीय विकास कार्यक्रम और परियोजनाएँ |

सामान्य हिंदी पाठ्यक्रम (General Hindi Syllabus)

  1. दिए हुए गद्य खंड का अवबोध और प्रश्नोत्तर |
  2. संक्षेपन
  3. सरकारी एवं अर्ध सरकारी पत्र लेखन, तार लेखन, कार्यालय आदेश, अधिसूचना, परिपत्र |
  4. शब्द ज्ञान एवं प्रयोग से सम्बंधित – उपसर्ग एवं प्रत्यय प्रयोग, विलोम शब्द, वाक्यांश के लिए एक शब्द, वर्तनी एवं वाक्य शुद्धि, लोकोक्ति एवं मुहावरे |

Other Articles:
देवी माँ के 51 शक्तिपीठ | 51 Shaktipeeth List – Devi Shakti Peethas

1 thought on “Tehsildar | तहसीलदार कैसे बने ? exam, syllabus and much more”

Leave a Comment