राजगढ़, मध्यप्रदेश राज्य का इतिहास | History of Rajgarh MP

Rajgarh, मध्य प्रदेश राज्य का ही एक जिला है। यह जिला मध्यप्रदेश राज्य में 6,154 किमी² (क्षेत्रफल) तक फैला हुआ है। राजगढ़ जिले का जनसंख्या घनत्व 300/किमी² है। यह मध्यप्रदेश राज्य का छोटा किन्तु स्वच्छ जिलो मे से एक है। स्वच्छता के कारण इस शहर की सुंदरता देखते ही बनती है। इस जिले की प्रमुख नदी नेवज नदी है। हिंदू धार्मिक ग्रंथो और शास्त्रो मे इस नदी का उल्लेख निर्विन्ध्या नदी के रूप मे मिलता है। राजगढ़ जिला मध्यप्रदेश राज्य का प्राचीन और ऐतिहासिक नगर है। इस जिले को मध्यप्रदेश राज्य का रेगिस्तानी जिला भी कहते है।

राजगढ़ का इतिहास | History of Rajgarh, MP

किसी समय मे राजगढ़ पर भीलो का शासन था। राजगढ़ जिले का भील शासको के समय का पुराना नाम झांझानीपुर था।इतिहासकारो के अनुसार सन् 1645ई. में राजगढ़ पर परमार वंश के शासनकाल मे कार्य करने वाले दीवान अजब सिंह ने राजमाता की आज्ञा से भीलो के शासक को सन् 1745 ई. में हराकर राजगढ़ पर अपना शासन स्थापित किया। दीवान अजब सिंह ने राजगढ़ पर विजय हासिल करने की खुशी में एक महल का निर्माण करवाया जिसके पाँच द्वार थे। सूरजपोल, इतवारिया ,पनराडिया, नया दरवाजा और भुदवारिया। इस महल में तीन प्राचीन मंदिर (राज राजेश्वर मंदिर, चतुर्भुजनाथजी मंदिर और नरसिंह मंदिर)अभी भी है जो जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है। परमार वंश के शासन के बाद यहाँ उमठ शासको और मुगलो ने भी शासन किया है। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद मई, 1948 मे राजगढ़ को मध्य प्रदेश राज्य का नया जिला घोषित कर दिया गया।

राजगढ़ जिला एक नजर में

  • निर्देशांक : 24 °15′37″ N 74°56′42″E
  • देश : भारत
  • राज्य : मध्य प्रदेश
  • विभाजन : भोपाल
  • मुख्यालय : राजगढ़ (मध्य प्रदेश सरकार)
  • लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र : राजगढ़ क्षेत्र
  • क्षेत्रफल : 6,154 किमी 2 (2,376 वर्ग मील)

आबादी (2011)

  • संपूर्ण : 1,545,814 
  • घनत्व : 300/किमी² (350/वर्ग मील)
  • मुख्य भाषा : हिन्दी

जनसांख्यिकी

  • साक्षरता   :62.21%
  • समय  : क्षेत्रयूटीसी+05:30 ( आईएसटी )
  • प्रमुख राजमार्ग : एनएच-3, एनएच-46

राजगढ़ जिले के दर्शनीय और पर्यटन स्थल | Tourist Places in Rajgarh

Rajgarh जिले में घूमने के कई स्थल है। यह स्थल धार्मिक, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक है।

  • श्री तिरुपति बालाजी मंदिर जीरापुर

इस मंदिर का निर्माण जीरापुर के एक भक्त श्री ओम प्रकाश मूंदड़ा और उनकी पत्नी शकुंतला ने किया। जब यह दंपति तिरूपति बालाजी के दर्शन कर ने गया तो इन्होने प्रण किया कि एक बालाजी का मंदिर जीरापुर मे भी बनाएगे। इस मंदिर को देखने के लिए लोग दूर दूर से आते हैं।

  • नरसिंहगढ़ का किला

नरसिंहगढ़ का किला कुंवर चैन सिंह ने बनवाया था। इस पूरे किले का परिदृश्य झील मे परिलक्षित होता है। इस किले को मध्य प्रदेश सरकार ने कुंवर चैन सिंह की छतरी पर गार्ड ऑफ ऑनर प्रारम्भ किया है। स्थानीय लोग इस किले को रहस्यमय मानते है।

  • मोहनपुरा डैम

यह भारत की पहली ऐसी सिंचाई परियोजना है जिसमे सबसे लंबी प्रेशरयुक्त पाइप लाइन की अंडर ग्राउंड नहर से 1 लाख 35 हजार हेक्टेयर जमीन में सिंचाई की जाएगी।यह परियोजना नेवाज नदी पर बनाई गई है।

  • जलपा माता मंदिर

यह मंदिर पहाड़ी की चोटी पर राजगढ़ शहर से लगभग 6 किमी दूर स्थित है। यह मां दुर्गा का एक प्रसिद्ध मंदिर है। राजगढ़ के उमठ वंश के राजपरिवार यहाँ पूजा-पाठ करते थे। यहां प्रत्येक वर्ष 1111 मीटर लंबी चुनरी राजमहल से माता रानी के दरबार तक ले जाया जाता है। नवरात्रि में यहाँ मेला लगता है और लोग दूर दूर से जालपा माता के दर्शन को आते है।

  • श्याम जी सांका मंदिर

इस मंदिर का निर्माण 16वीं से 17वीं शताब्दी के मध्य में राजा संग्राम सिंह (श्याम सिंह) की स्मृति मे पत्नी भाग्यवती ने बनाया था। यह मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिरूप की पूजा होती हैं ।

  • श्री नाथजी का बड़ा मंदिर

नेवज नदी के किनारे और पहाड़ो के बीच यह मंदिर स्थित है। इस मंदिर की स्थापत्य एवं शिल्प कला देखते ही बनती है। बारिश के मौसम (वर्षा ॠतु) में जब नेवज नदी का जल स्तर बढ़ जाता है तो इस मंदिर का गर्भगृह डूब जाता है। यह मंदिर राजगढ़ क्षेत्र का प्रसिद्ध मंदिर है।

  • खोयरी महादेव मंदिर

यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है।यह राजगढ़ क्षेत्र के प्रसिद्ध मंदिरो में से एक है। इस मंदिर के चारो तरफ पेड़ पौधे और हरियाली देखने को मिलती है। हरियाली होने के कारण यहाँ विभिन्न तरह के पक्षियो को भी देखने को मिलता है।

राजगढ़ जिले में कितनी तहसीलें है

राजगढ़ जिले में सात तहसीलें हैं ये हैं राजगढ़, खिलचीपुर, सारंगपुर, पचौर, नरसिंहगढ़, ब्यावर और जीरापुर।

राजगढ़ जिले की सीमा का निर्धारण कैसे होता है

राजगढ़ जिला मालवा के पठार के उत्तरी किनारे पर स्थित है और पार्बती नदी इस जिले की पूर्वी सीमा निर्धारित करती है। काली सिंध नदी राजगढ़ जिले का पश्चिमी सीमा निर्धारित करती है।

राजगढ़ जिले के सीमावर्ती जिले कौन-2 से है

राजगढ़ जिला उत्तर दिशा की ओर से राजस्थान राज्य और उत्तर पूर्व दिशा की तरफ से  मध्यप्रदेश के गुना जिलों से, पूर्व दिशा में भोपाल से , दक्षिण पूर्व दिशा में सीहोर से और दक्षिण और पश्चिम में शाजापुर से घिरा हुआ हैं।

राजगढ़ जिले में कितने गांव हैं

राजगढ़ जिले  में लगभग 1728 गांव हैं ।

राजगढ़ जिले में कोनसी मिट्टी पायी जाती है

राजगढ़ जिले की मिट्टी काली मिट्टी है ।

राजगढ़ जिले में कौन कौन सी फसल ऊगाई जाती है

राजगढ़ जिले में मुख्यतः कपास, उत्कृष्ट गेहूं, ज्वार ,चना और कपास की फसलें उच्च गुणवत्ता और अच्छी मात्रा मे ऊगाई जाती है।

Other Articles:
Mohanpura Dam (मोहनपुरा डैम) Rajgarh- A Irrigation Project of MP
Narsinghgarh किले से जुडी जानकारी | A Story behind it

2 thoughts on “राजगढ़, मध्यप्रदेश राज्य का इतिहास | History of Rajgarh MP”

Leave a Comment