Pavagadh कालिका माता मंदिर: संपूर्ण जानकारी

Pavagadh Kalika Mata का मंदिर गुजरात के पंचमहल जिले मे स्थित है। यह मंदिर दक्षिणमुखी काली माँ का मंदिर है। काली माता का यह प्रसिद्ध मंदिर देवी माँ के शक्तिपीठों में से एक है। शक्तिपीठ उन पूजा स्थलों को कहा जाता है, जहाँ माँ सती के अंग गिरे थे। शिव पुराण के अनुसार पिता दक्ष के यज्ञ में जब सती माँ अपमानित होती है तो अपने योगबल से प्राण त्याग देती है। माँ सती की इस प्रकार की मृत्यु से शिवशंकर व्यथित होकर माँ सती के मृत शरीर को लेकर तांडव करते हुए ब्रह्मांड में भटकते है। इस समय माँ के अंग जहाँ-जहाँ गिरे वहीं शक्तिपीठ बन गया। ऐसा माना जाता है कि पावागढ़ में माँ सती के दाहिने पैर की अंगुली गिरी थी।

पावागढ़ नाम कैसे पड़ा? | Why Pavagadh is named?

पावागढ़ मतलब ऐसी जगह से है जहाँ पवन का वास होता है। माना जाता है कि इस दुर्गम कठिन पर्वत पर चढ़ने का काम लगभग असंभव था । चारों तरफ खाइयों से घिरे होने के कारण यहाँ हवा का वेग भी चहुँतरफा था, इसलिए इस स्थान का नाम पावागढ़ पड़ा। अर्थात ऐसी जगह जहाँ सिर्फ पवन का वास है।

पावागढ़ कालिका माता मंदिर का पौराणिक और ऐतिहासिक महत्त्व

पावागढ़ कालिका माता मंदिर का पौराणिक और ऐतिहासिक महत्त्व भी है। ऐसा कहा जाता है कि यह मंदिर श्रीराम के समय का है। इस मंदिर को ‘शत्रुंजय मंदिर’ के नाम से भी जाना जाता है। साथ ही साथ यह भी माना जाता हैं कि मां काली की मूर्ति महर्षि विश्वामित्र ने स्थापित की थी। इसलिये यहाँ बहने वाली नदी का नाम महर्षि विश्वामित्र के नाम पर पड़ा “विश्वामित्री“। स्थानीय लोगो का मानना है कि भगवान राम के साथ साथ उनके बेटे लव और कुश के अलावा बहुत से बौद्ध भिक्षुओं ने भी यहां मोक्ष प्राप्त किया है।

Pavagadh कालिका माता मंदिर की वास्तुकला

पावागढ़ कालिका माता मंदिर का निर्माण काल 10वी – 11वी शताब्दी के बीच माना जाता है। स्थानीय लोगों के अनुसार इस मंदिर मे पूजा अर्चना का आरंभ राजा सरदार सदाशिव के द्वारा किया गया था। कालिका माता मंदिर की वास्तुकला सरंचना बहुत ही अद्भुत है। इस मंदिर का परिसर दो भागों में विभाजित है। पहला परिसर जो भूतल है हिंदू मंदिरों से युक्त है, जबकि दूसरा परिसर जो मंदिर के शिखर पर है मुस्लिम धर्मस्थल है। इस मंदिर के गर्भ गृह मे लाल रंग में रंगी कालिका माता की मूर्ति स्थापित है। जबकि महाकाली उनके दाहिने ओर बाहुचरा में स्थित हैं। माना जाता है कि यहां प्रयुक्त हुआ संगमरमर का फर्श 1850 के दशक का है।

पावागढ़ कालिका माता मंदिर की विशेषतायें

  • पावागढ़ कालिका माता का मंदिर देवी माँ के 51 शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ है।
  • पावागढ़ कालिका माता का मंदिर यूनेस्को विश्व विरासत स्थल का एक हिस्सा है।
  • पावागढ़ कालिका माता के मंदिर मे माँ सती का अंगूठा गिरा था।
  • पावागढ़ कालिका माता के मंदिर मे जाने के लिए 250 सीढियाँ चढ़नी पड़ती है। इसलिए यहाँ केबल कार की भी व्यवस्था की गई है।
  • इस मंदिर के परिसर को दो भागों मे विभाजित किया गया है। भूतल हिन्दु धर्म वालों का धर्म स्थल है तो शीर्ष मुस्लिम धर्म वालों का धर्म स्थल।

पावागढ़ कालिका माता मंदिर कैसे पहुँचे | How to reach Pavagadh Mandir

पावागढ़ कालिका माता का मंदिर ट्रेन, बस और प्लेन के द्वारा पहुंचा जा सकता है।

रेल मार्ग-वड़ोदरा रेलवे स्टेशन पावागढ कालिका माता मंदिर के लिए निकटतम रेलवे-स्टेशन है। जो मंदिर से लगभग 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
वायु मार्ग- पावागढ़ कालिका माता मंदिर के लिए निकटतम हवाई अड्डा मंदिर से लगभग 42 किलोमीटर की दूरी पर स्थित वड़ोदरा एयरपोर्ट है।
सड़क मार्ग- पावागढ़ का कालिका माता मंदिर तक जाने वाली सड़क वड़ोदरा के सड़क मार्ग से जुड़ती है जिस से आसानी से कालिका माता मंदिर पहुँचा जा सकता है। यहाँ बस के अलावा सेल्फ ड्राइव और टैक्सी आसानी से किराये पर मिल जाती है।

Other Articles: देवी माँ के 51 शक्तिपीठ | 51 Shaktipeeth List – Devi Shakti Peethas

1 thought on “Pavagadh कालिका माता मंदिर: संपूर्ण जानकारी”

Leave a Comment