MSW (Master’s in Social Work) में कैसे बनाए कैरियर ?

MSW कोर्स का पूरा नाम Master’s in social work है। यह एक परा स्नातक (post graduation) कोर्स है। इस कोर्स के अंतर्गत सोशल वर्क और सोशल साइंस के विषयों को पढ़ना जाता हैं। इस  कोर्स के द्वारा समाजिक कल्याण से संबंधित जानकारी और जागरूक होने की जानकारी होने के अलावा समाज में व्याप्त बुराई को नष्ट करके तकनीकी दुनिया में प्रवेश करके समाज को किस प्रकार से एक अच्छा और प्रभावित समाज बना सकते है यह सब इस कोर्स में सिखाया और पढ़ाया जाता है।

Master’s in social work में विधार्थीयों को समाज में आने वाली समस्याओ को पहचान कर किस तरह से समाधान किया जाए साथ ही साथ गरीबो को सरकारी योजनाओ से अवगत कराना और समाज में व्याप्त कैमियो की उचित गणना करके सरकार को देना एक सही मायने मे MSW के छात्र/छात्राओ का कार्य होता है।

MSW कोर्स के लिए योग्यता

यह एक परा स्नातक (post graduation) कोर्स है।

मास्टर्स इन सोशल वर्क के कोर्स मेें डिग्री लेने के लिए कोई भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय (यूनिवर्सिटी )और कॉलेज से सबसे पहले बैचलर डिग्री अथवा बैचलर इन सोशल वर्क के डिग्री लेनी होती है।परंतु स्नातक की डिग्री में कम से कम 50% अंकों के साथ पास होना अनिवार्य होता है। तभी जाकर मास्टर्स इन सोशल वर्क (MSW) में प्रवेश (Admission) मिलता है।

MSW (Master’s in social work) कोर्स की फीस

जैसे ही किसी कोर्स मे दाखिले की बात चलती है तो सबसे पहले ध्यान कोर्स की फीस पर आता है। MSW (Master’s in social work) कोर्स की फीस सभी कॉलेज और विश्वविद्यालय में एकसमान नहीं है। लेकिन इस कोर्स की फीस 15000रू – 20000 रू के बीच ही पड़ती है।यह एक ऑफोरडेबल फीस है।

MSW (Master’s in social work) में पढ़ाये जाने वाले विषय

  • लेबर वेल्फेयर
  • पर्सनल मैनेजमेंट
  • इंडस्ट्रियल रिलेशन
  • फैमिली और चाइल्ड वेल्फेयर
  • स्कूल सोशल वर्क
  • मेडिकल सोशल वर्क
  • ग्रामीण और शहरी कम्यूनिटी डेवलपमेंट
  • ह्यूमन रिसोर्सेज मैनेजमेंट

MSW (Master’s in social work) में कैरियर

MSW (Master’s in social work) का कोर्स करने के बाद केन्द्र सरकार, राज्य सरकार, अर्द्ध सरकारी और प्राइवेट सभी क्षेत्रो में नौकरी की संभावनाए बनती है। सरकार के द्वारा जनहित में चलाए गए योजनाओ को जन जन तक पहुँचाने का कार्य करके यह सरकार की भी मदद व सहायता करते है। इसके अलावा और भी नौकरी के संभावित क्षेत्र हैं। जैसे

  • काउन्सिलिंग सेन्टर
  • अस्पताल (hospital)
  • एनजीओ (NGO)
  • समाजिक कल्याण और सेवा
  • क्लिनिक (clinic)
  • विकास कार्य क्षेत्र
  • शिक्षा क्षेत्र (education)
  • अंतर्राष्ट्रीय सोशल वर्क (international social work)
  • नेचुरल रिसोर्सेज मैनेजमेंट (Natural resources management company)
  • एच आर डिपार्टमेंट ऑफ स्टडीज(HR department of industry)
  • ह्यूमन राइट अधिकार (human rights agency)

(Master’s in social work) कोर्स मे दाखिला (प्रवेश) परीक्षा

कुछ विश्वविद्यालय और कॉलेज इस कोर्स में प्रवेश के लिए एक परीक्षा का आयोजन करते है। इस परीक्षा में पास करने के बाद ही विश्वविद्यालय और कॉलेज में प्रवेश मिलता है।

AISECT Joint Entrance Exam (AJEE) के अंतर्गत  Rabindranath Tagore University, Bhopal और Dr CV Raman University,Madhya Pradesh आता है।

Central Universities Common Entrance Test (CUCET) के अंतर्गत  Central University of Karnataka और Central University of Kerala, Kasargode आता है।

Kurukshetra University स्वयं ही अपना Entrance Exam Faculty of Social Sciences department के तहत लेता है।

GD Goenka University, Gurgaon भी इस कोर्स के लिए अपना एक Entrance Test लेता है जिसे Goenkan Aptitude Test for Admission (GATA) कहते है।

Palamuru University, Telangana भी इस कोर्स के लिए अपना ही Entrance Test करवाता है जिसे Common Post Graduate Entrance Test (CPGET) कहते है।

NIMS University, Jaipur भी इस  कोर्स के लिए खुद का Entrance Test आयोजित करता है जिसे NIMS Entrance Exam (NIMSEE) बोला जाता है।

Integral University, Lucknow भी इस कोर्स के लिए Entrance Test करती है जिसे Integral University Entrance Test (IUET) कहा जाता है।

Faculty of Behavioural and Social Sciences, Manav Rachna University, Faridabad में भी प्रवेश लेने के लिए इस विश्वविद्यालय के द्वारा आयोजित Entrance Test पास करना होता है जिसे Manav Rachna National Aptitude Test (MRNAT) कहते है।

Tehsildar | तहसीलदार कैसे बने ? exam, syllabus and much more

Leave a Comment