Medical Store Franchise : कैसे कमाए लाखों

मेडिकल स्टोर फ्रैंचाइजी क्या है

Medical Store Franchise: मेडिकल स्टोर जिसे फार्मेसी भी कहते है। और सामान्य जन भाषा में इसे लोग दवाई की दुकान भी बोलते है। इस तरह के दुकान पर शरीर को ठीक रखने के लिए डॉक्टर के द्वारा प्रिस्क्रिप्शन पर लिखी गई दवाईया व औषधि मिलती है। कुछ लोगो को सामान्य दवाइयों का नाम पता होता है तो वो केवल दुकान पर नाम बोलकर दवाईया ले सकते है ।

मेडिकल स्टोर का व्यापार एक ऐसा व्यापार है जो वर्ष के 365 दिन चलता है और आज के परिवेश में यह व्यापार बहुत तेजी से फल फूल रहा है।

फ्रैंचाइजी किसी भी वस्तु के दुकान का लिया जा सकता है। यह एक तरह से कंपनी के नाम और उसके अंदर बनने वाले उत्पाद को अपने दुकान के जरिए बेचता है इसके लिए कंपनी के दवारा बताए हुए नियम और शर्ते माननी होती है। और यदि कंपनी बहुत प्रसिद्ध हो तब तो ग्राहक और भी जुटते है। यदि जन सामान्य की भाषा में बोला जाए तो फ्रैंचाइज़ी का अर्थ कंपनी से कमीशन लेकर बाजार में सामान बेचने से होता है। निजी क्षेत्र में फ्रेंचाइजी देने वाली कंपनियों में मेडी प्लस और अपोलो जैसी नामचीन कई कंपनियां हैं तो केंद्र सरकार द्वारा जनऔषधी सेंटर का फ्रैंचाइजी लोगो को दिया जा रहा है।

मेडिकल स्टोर की फ्रैंचाइजी कौन सी कंपनिया प्रोवाइड करती है।

Medical Store Franchise एक चेन सिस्टम के तहत आती है जिसमे कंपनियॉ कुछ नियम और शर्तो के आधार पर दुकान को अपने कंपनी के नाम के अंतर्गत जोडती है जैसे

Genmart Generic Pvt. Ltd.

स्थापना वर्ष: 2018
फ्रैंचाइजी की शुरुआत : वर्ष 2019
फ्रैंचाइजी की ईकाई:  10 से भी कम
शुरुआती निवेश:  20 लाख रुपए से शुरू
सिक्युरिटीज मनी :  5 लाख रुपए

Care Pharmacy

स्थापना वर्ष : 2017
फ्रैंचाइजी की शुरुआत: वर्ष 2018
फ्रैंचाइजी की ईकाई : 10से भी कम
शुरुआती निवेश: 5 लाख रुपए से शुरू
सिक्युरिटीज मनी : 2 लाख रुपए

Sanjivani

स्थापना वर्ष: 2006
फ्रैंचाइजी की शुरुआत : वर्ष  2015
फ्रैंचाइजी की ईकाई : 20-50
शुरुआती निवेश: 10 लाख रुपए से शुरू
सिक्युरिटीज मनी:3.5 लाख रुपए

MedPlus Pharmacy

स्थापना वर्ष: 2006
फ्रैंचाइजी की शुरुआत : वर्ष 2015
फ्रैंचाइजी की ईकाई : 20-50
शुरुआती निवेश: 10 लाख रुपए से शुरू
सिक्युरिटीज मनी :1 लाख रुपए

DavaIndia

स्थापना वर्ष : 1995
फ्रैंचाइजी की शुरुआत : वर्ष 2017
फ्रैंचाइजी की ईकाई: 550 से भी अधिक
शुरुआती निवेश: 6-7लाख रुपए से शुरू
सिक्युरिटीज मनी : 1.5 लाख रुपए

EMEDIX

स्थापना वर्ष : 2016
फ्रैंचाइजी की शुरुआत : वर्ष 2018
फ्रैंचाइजी की ईकाई : 20
शुरुआती निवेश : 5 लाख रुपए से शुरू
सिक्युरिटीज मनी :जमा पूंजी का 1%

Apollo Pharmacy

स्थापना वर्ष : 1983
फ्रैंचाइजी की शुरुआत : वर्ष 1987
फ्रैंचाइजी की ईकाई: 3500 से भी अधिक
शुरुआती निवेश:  5 -15 लाख रुपए से शुरू

मेडिकल स्टोर की फ्रैंचाइजी कैसे लेते है | How to get medical store franchise

मेडिकल स्टोर अपनी फ्रैंचाइजी स्थानीय दुकानदारो को देने के लिए कुछ नियम और शर्ते दुकानदारो के सामने रखती है। यदि दुकानदार कंपनी से जुड़े सभी नियम, शर्ते और मानको पर खड़ा उतरता है तो कंपनी फिर उसे अपनी कंपनी की फ्रैंचाइजी मतलब अपने कंपनी के नाम के अंतर्गत दुकान खोलने की इजाजत दे देती है।यह नियम और शर्ते कुछ इस प्रकार है

  1. सबसे पहले लिखित रूप में कंपनी को यह बताना पड़ता है कि आप दुकान कहाँ खोलगे और कितने स्क्वायर फुट के अंदर दुकान खोलेगे। यदि साधारण शब्दो में कह जाए तो कंपनी की फ्रैंचाइजी लेने के लिए कंपनी के बताए अनुसार जगह आपके पास होनी चाहिए।
  2. मेडिकल स्टोर की कंपनियॉ अपनी फ्रैंचाइजी देने से पहले दुकानदारो से कुछ पूंजी सिक्युरिटीज मनी के तौर पर अपने पास जमा करवाती है। इसके पीछे कंपनी का एकमात्र उद्देश्य यह होता है कि दुकानदार उनकी कंपनी की शाख मजबूती से बाजार में बनाए रखे।
  3. मेडिकल स्टोर की कंपनियॉ अपनी फ्रैंचाइजी स्थानीय दुकानदारो को कभी आजीवन के लिए दे देती है तो कभी कुछ निश्चित समय तक के लिए ही देती है।
  4. आजकल मेडिकल स्टोर की कंपनियॉ अपनी फ्रैंचाइजी दुकानदारो को देने से पहले यह देख लेती है कि जो व्यक्ति फ्रैंचाइजी ले रहा है उसके पास दवाई से संबंधित डिग्री है या नही क्योकि यदि भविष्य में कुछ भी नुकसानदेह होता है तो फिर कंपनी के शाख व नाम पर असर होता है।
  5. मेडिकल स्टोर की कंपनियॉ अपनी फ्रैंचाइजी से सिक्युरिटीज मनी तो डिपोजिट करवाती ही है साथ ही साथ प्रति उत्पाद बेचने पर दुकानदारो को अनुबंध पत्र के हिसाब से लाभ का कुछ प्रतिशत कंपनी को भी  देना पड़ता है।
  6. मेडिकल स्टोर की कंपनियॉ अपनी फ्रैंचाइजी उन्हीं दुकानदारो को देती है जिनके पास दवाई बेचने का लाइसेंस होता है।इसलिए मेडिकल स्टोर की कंपनियॉ से फ्रैंचाइजी लेने के लिए पहले दवाई दुकान के नाम पर लाइसेंस होना अनिवार्य है।

आजकल जीवन जीने का जो तरीका है। यह जो भागती दौड़ती जिंदगी है उसमें बीमारियो ने भी हर रूप में चाहे वह मानसिक हो या फिर शारिरीक अपनी पैठ लगा ली है। फलस्वरुप दवाईयो की जरूरत। दवाईयो की जरूरत हर वर्ग के लोगो को होता है। एक नवजात शिशु से लेकर मृत्युशय्या पर लेटे व्यक्ति को भी दवाई की जरूरत होती है।इसलिए दवाई का दुकान या मेडिकल स्टोर खोलना व्यापार में  एक अच्छा विकल्प है ।

Other Articles:
टाइल्स का बिजनेस कैसे स्टार्ट करें | How to start tiles business ?

1 thought on “Medical Store Franchise : कैसे कमाए लाखों”

Leave a Comment