जाखू मंदिर, शिमला | Jakhu Mandir

जाखू मंदिर हनुमान मंदिर हिमाचल प्रदेश के शिमला की जाखू पहाड़ी पर स्थित है। यह जाखू पहाड़ी शिवालिक पर्वत श्रृंखला का एक हिस्सा है।

इस मंदिर की हनुमान जी की मूर्ति विश्व में सबसे बड़ी है। लगभग 108 फीट लंबी इस मूर्ति का सार्वजनिक अनावरण अभिषेक बच्चन और पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार द्वारा 2010 में किया गया था। भारत के सबसे बड़े ओरल केयर उत्पाद निर्माताओं, जेएचएस स्वेनगार्ड लैबोरेटरीज और एचसी नंदा ट्रस्ट द्वारा इसका निर्माण हुआ है। लगभग 1.5 करोड़ रुपए का खर्चा हुआ है इसके निर्माण में।

इस मंदिर से जुड़ी हिंदू पौराणिक कथा

रामायण के अनुसार, हनुमान जब लक्ष्मण को ठीक करने के लिए संजीवनी बूटी लेने जा रहे थे, तब वे यहीं रुके थे। ऐसा माना जाता है कि हनुमान जी के वजन के कारण पर्वत अपने मूल आकार से आधा हो गया था।

उन्होंने पहाड़ी की चोटी पर संत याकू से संजीवनी बूटी के बारे में कुछ और ज्ञान भी प्राप्त किया। याकू ने उनसे कुछ और समय रुकने का आग्रह किया लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया और वादा किया कि वह लंका लौटते समय ऐसा करेंगे।

वापस लौटते समय, उन्हें पहले ही बहुत देर हो चुकी थी इसलिए उन्हें वादा तोड़ना पड़ा। लेकिन कुछ महीनों के बाद, उन्होंने संत याकू से मुलाकात की और पूरी बात समझाई।

इस यात्रा का सम्मान करने के लिए ही याकू ने पहाड़ी की चोटी पर इस मंदिर का निर्माण किया था। यहां रहने वाले बंदरों को भगवान हनुमान के वंशज माना जाता है l यदि आप इस मंदिर में जा रहे हैं तो बंदरों से सावधान रहें क्योंकि वे आगंतुकों से चीजें छीनने के लिए प्रसिद्ध है।

जाखू मंदिर कैसे पहुंचा जाये?

यह मंदिर सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक खुला रहता है। इस जगह पर जाने के लिए कोई प्रवेश टिकट नहीं है। यह जगह शिमला रेलवे स्टेशन से सिर्फ 7 किलोमीटर और बस स्टेशन से 7 किलोमीटर की दूरी पर है। यदि कोई मंदिर तक पहुँचने के लिए इतना लंबा ट्रेक नहीं करना चाहता है, तो आजकल भक्तों के लिए रोपवे की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाती है।

शहर के केंद्र से पहाड़ी की चोटी तक पहुंचने में मुश्किल से 10 मिनट लगते है। इस सवारी की कीमत प्रति व्यक्ति 500 ​​रुपये है। इस रोपवे को जैगसन्स इंटरनेशनल लिमिटेड ने बनाया है।

आगंतुकों के लिए कैब या टैक्सी किराए पर लेना भी एक विकल्प है। पहाड़ी की चोटी तक आसानी से पहुंचने के लिए टट्टू की सवारी भी उपलब्ध है। यह रास्ता लगभग 2.5 किलोमीटर लंबा है।

इस मंदिर के बारे में रोचक तथ्य

  • मूर्ति रात के दौरान प्रकाशित होती है। यहां के लोगों ने इस प्रतिमा के आसपास की वनस्पति को साफ कर दिया है ताकि यह शिमला में हर जगह से दिखाई दे।
  • इस मंदिर में अभी भी उस समय के भगवान हनुमान के पैरों के निशान हैं, जब उन्होंने इस स्थान का दौरा किया था
  • यह पहाड़ी चोटी समुद्र तल से 8000 फीट ऊपर है।
  • इस मंदिर के पास अब आगंतुकों के लिए एक सुंदर पार्क भी बनाया गया है।
  • हर साल यहां जोरों शोरों से दशहरा मनाया जाता है। दूर दूर से हनुमान भक्त इस त्यौहार का आनंद लेने के लिए आते है।
  • हम आपको सलाह देंगे कि आप इस मंदिर की यात्रा बर्फबारी के मौसम में करें क्योंकि इस दौरान शिमला की खूबसूरती और भी बढ़ जाती है।

Other Famous Articles
कंदरिया महादेव मंदिर, खजुराहो मध्यप्रदेश | Kandariya Mahadev Temple

Leave a Comment