गुड़ की चाय के लाभ | Jaggery Tea : Benefits and Recipe

गुड़ (Jaggery) एक हल्के पीले रंग का या गाढ़े भूरे रंग का मीठा ठोस खाद्य पदार्थ है जो जो ईख अथवा ताड़ के रस को उबालकर कर सुखाने के बाद प्राप्त होता है। गुड़ का स्वाद मीठा होता है। गुड़ एक पारंपरिक और अपरिष्कृत शक्कर है। गुड़ औषधीय गुणो से भरा मीठा खाद्य पदार्थ है। जिसका प्रसंस्करण घरेलू रूप से होता है। Jaggery मे 20% तक नमी, 50% सुकर्रोस और गुड़ बनाते वक्त बचे हुए अविलय पदार्थ जैसे रेशा, प्रोटीन और राख होते है जो शरीर के लिए बहुत महत्वपूर्ण और फायदेमंद साबित होते है।

गुड कैसे बनता है | how to make Jaggery

बैल अथवा गाय के द्वारा गन्ने से लगभग 60-65 प्रतिशत रस निकलता है। यह रस डालते समय कपड़ो से रस छान लिया जाता है। तब इस रस को लोहे की बड़ी-बड़ी और गहरी कढ़ाही में डाल कर उबाला जाता है। रस को उबालते समय इस रस को लगातार मिलाया जाता है और इसमें युक्त अशुद्धियां को निकालने के लिए चूना और गुड़ के  गुणों में वृद्धि के लिए विभिन्न तरह की वस्तुएं मिलायी जाती हैं। धीरे धीरे गन्ने के रस का पानी उड़ जाता है और बचे हुआ रस अर्ध ठोस पदार्थ का रूप ले लेता है फिर इसे साँचों में डाल कर विभिन्न आकारों में जमाया जाता है।

गुड़ के फायदे | Benefits of Jaggery

Jaggery (गुड़) प्राकृतिक रूप से औषधीय मीठा खाद्य पदार्थ है। गुड़ पाचन शक्ति को,सर्दी-जुकाम होने पर, गले में खराश और जलन होने पर, जोड़ो में दर्द की समस्या होने पर, त्वचा की सफाई में, रक्त संचार बेहतर करने में , एनीमिया रोग को दूर करने में, शरीर मे ऊर्जा बनाये रखने में, शरीर के तापमान को बनाए रखने में, गले और फेफड़ो के संक्रमण के इलाज में, सांस संबंधी रोग में, मासिक धर्म मे होने वाली समस्या में, वजन कम करने में, स्मरण शक्ति बढ़ाने मे इत्यादि में बहुत ही महत्वपूर्ण और फायदेमंद साबित होता है। सर्दियों के मौसम में गुड़ का महत्व और भी बढ़ जाता है। गुड़ स्वभाव से गर्म होता है इसलिए इसे काढ़ा बनाते वक्त इसे अवश्य डालते है।

गुड़ की चाय के लाभ | Benefits of Jaggery Tea

  • सर्दी के मौसम में शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने में और शरीर को गरम करने में गुड़ की बनी हुई चाय बहुत ही फायदेमंद होती है।
  • गुड़ एक प्राकृतिक मीठा खाद्य पदार्थ है और चीनी की अपेक्षाकृत इसमे मिनरल, खनिज लवण,और  विटामिन होते है जो शरीर के वृद्धि के लिए आवश्यक होते है। इस लिहाज से एक कप चाय गुड़ की बनी हुई बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है।
  • आयुर्विज्ञान के अनुसार यदि सर में दर्द हो अथवा माइग्रेन की समस्या हो तो इसमें गुड़ की बनी हुई चाय पीने से काफी आराम मिलता है।
  • गुड़ में विभिन्न पोषक तत्व के साथ आयरन भी होता है। आयरन शरीर के लिए बहुत जरूरी होता है क्योंकि यह शरीर के विभिन्न हिस्सों में ऑक्सीजन पहुंचाता है। गुड़ की चाय बहुत ही तक आयरन की कमी को पूरा करती है।
  • गुड़ की चाय का सेवन से चेहरे पर आये दाग धब्बे अथवा निशान दूर हो जाते है या मलिन पड़ जाते है।
  • गुड़ की एक कप चाय की प्याली सर्दी खाँसी और जुकाम को दूर भगा देती है।
  • Jaggery Tea से जोड़ो के दर्द मे भी राहत मिलती है।
  • गुड़ वाली चाय वजन घटाने और  मोटापे को कम करने में  सहयक सिद्ध होती है।
  • यदि सुस्ती आ रही हो तो एक कप गुड़ वाली चाय पीने से शरीर में तुरंत ही ताज़गी और ऊर्जा आ जाती है।
  • गुड़ वाली चाय शरीर के रक्तचाप को  नियंत्रण में रखती है।
  • गुड़ में विटामिन सी की अच्छी मात्रा होने के कारण बाल बढ़िया हो जाते है। इसीलिए एक कप गुड़ की चाय तो बनती है।
  • Jaggery Tea (गुड़ की चाय) पीने से शरीर को गर्मी मिलती है। इसलिए बारिश और ठंड के मौसम में गुड़ की चाय पीना फायदेमंद साबित होता है।
  • गुड़ की एक कप चाय पेट को साफ रखने में मददगार साबित होती है।
  • मासिकधर्म के दौरान होनेवाले दर्द को गुड़ की चाय दर्द को कम करती है
  • Jaggery Tea (गुड़ की चाय) लिवर को भी स्वस्थ रखती है।

Jaggery (गुड़) को दूध या दही के साथ भी खाना जाता है। बच्चे तो गुड़ की भेली यूँ ही खाते है। पर्व या किसी भी त्यौहार के मौके पर भारतीय संस्कृति में चीनी की अपेक्षाकृत गुड़ को विशेष महत्व दिया जाता है। मकर संक्रान्ति त्यौहार के मौके पर बनने वाले सारे खाद्य पदार्थ में चीनी की बजाय गुड़ का प्रयोग किया जाता है।

गुड़ को दही के साथ खाने से शरीर को लाभ पहुंचता है। दही में गुड़ मिलाकर खाने से खाने का स्वाद और भी बढ़ जाता है। इतना ही नही दही में गुड़ मिलाकर खाने से शरीर मे खून की कमी जिसे एनीमिया भी कहते है उस पर बहुत हद तक नियंत्रण किया जा सकता है। दही में गुड़ के साथ साथ काली मिर्च मिलाकर खाने से सर्दी-जुकाम में आराम मिलता है।

Other Articles:
Masala Chai | मसाला चाय क्या होती है? – Benefits, Recipe and Taste

Leave a Comment