गुरु गोविंद सिंह जयंती कब और क्यों मनाई जाता है | Guru Gobind Singh Jayanti

गुरु गोविंद सिंह जयंती के शुभ अवसर को दसवें सिख गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाश पर्व के रूप में भी जाना जाता है। गुरु गोबिंद सिंह जयंती एक सिख त्यौहार है जो गुरु गोबिंद सिंह जी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, गुरु गोबिंद सिंह की जयंती हर साल दिसंबर या जनवरी में आती है। लेकिन गुरु की जयंती का वार्षिक उत्सव नानकशाही कैलेंडर के अनुसार होता है।

यह एक धार्मिक उत्सव है जिसमें समृद्धि के लिए प्रार्थना की जाती है। गुरु गोबिंद सिंह जयंती पर सार्वजनिक अवकाश होता है। यह सामान्य आबादी के लिए एक दिन की छुट्टी है, और स्कूल और अधिकांश व्यवसाय बंद होते हैं।

गुरु गोबिंद सिंह जी का इतिहास

गुरु गोबिंद सिंह जी 10वें सिख गुरु थे। उनका जन्म 5 जनवरी, 1666 को पटना, बिहार, भारत में हुआ था। गुरु गोबिंद सिंह जी गुरु तेग बहादुर के पुत्र थे, जिन्होंने धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। नौ वर्ष की आयु में गुरु बनने पर उन्होंने अपने पिता का स्थान लिया। गुरु गोबिंद सिंह जी की शिक्षाओं का सिखों पर बड़ा प्रभाव है। अपने जीवनकाल में वे मुगल शासकों के विरुद्ध खड़े हुए और अन्याय के विरुद्ध संघर्ष किया।

1699 में, गुरु गोबिंद सिंह जी ने पांच लोगों को लिया और उन्हें अपने पांच प्यारे के रूप में बपतिस्मा दिया। यह ईश्वर के प्रति उनका समर्पण, उनकी निडरता और लोगों को उत्पीड़ित होने से बचाने की उनकी इच्छा थी, जिसके कारण गुरु गोबिंद सिंह जी ने संत-सैनिकों की एक सैन्य सेना खालसा की स्थापना की, जिसे उन्होंने बपतिस्मा दिया। उन्होंने सामाजिक समानता का पुरजोर समर्थन किया। वह दमन और भेदभाव के खिलाफ खड़े हुए और इसलिए, लोगों के लिए एक महान प्रेरणा के रूप में उभरे।

गुरु गोबिंद सिंह जी के मार्गदर्शन और प्रेरणा के तहत, खालसा ने एक सख्त नैतिक संहिता और आध्यात्मिक अनुशासन का पालन किया। यह उनके साहस के माध्यम से था कि लोग उस समय भारत में मुगल शासक के उत्पीड़न के खिलाफ उठ खड़े हुए।

एक आध्यात्मिक और एक सैन्य नेता होने के अलावा, गुरु गोबिंद सिंह जी एक प्रतिभाशाली लेखक भी थे, जिन्होंने साहित्यिक कार्यों का एक बड़ा हिस्सा लिखा था। गुरु गोबिंद जी ने अपनी शिक्षाओं और दर्शन के माध्यम से सिख समुदाय का नेतृत्व किया और जल्द ही ऐतिहासिक महत्व हासिल कर लिया। 1708 में गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपनी मृत्यु से पहले गुरु ग्रंथ साहिब को सिख धर्म का पवित्र ग्रंथ घोषित किया था।

गुरु गोविंद सिंह जयंती मनाने का तरीका

गुरु गोविंद सिंह जयंती मनाने के लिए, दुनिया भर के सिख गुरुद्वारों में जाते हैं, जहाँ गुरु गोबिंद सिंह जी के सम्मान में प्रार्थना सभाएँ होती हैं। लोग गुरुद्वारों द्वारा आयोजित जुलूसों में भाग लेते हैं, कीर्तन करते हैं और समुदाय के लिए सिख धर्म का एक महत्वपूर्ण हिस्सा सेवा भी करते हैं।

इस दिन, भक्त इकट्ठा होते हैं और गुरु के आशीर्वाद के लिए प्रार्थना करते हैं। बड़ी सभाओं का आयोजन किया जाता है जिसमें वे भक्ति गीत गाते हैं और वयस्कों और बच्चों के साथ भोजन साझा करते हैं। इसके बाद उनके पूजा स्थल गुरुद्वारों में विशेष प्रार्थना की जाती है। उत्सव में भोजन भी एक प्रमुख भूमिका निभाता है। इस शुभ अवसर पर, कई भक्त प्रार्थना करने और पवित्र सरोवर में डुबकी लगाने के लिए पंजाब के स्वर्ण मंदिर जाते हैं।

गुरु गोबिंद सिंह की इन 10 खास बातों को अगर आप अपने जीवन में उतार लें तो आपको सफलता जरूर मिलेगी।

  1. धरम दी किरत करनी: ईमानदारी से काम करके अपनी आजीविका कमाओ।
  2. दसवां हिस्सा देना: अपनी कमाई का दसवां हिस्सा दान में दें।
  3. गुरबानी का पाठ: गुरबानी का पाठ करें।
  4. काम में मेहनत करें और काम के प्रति लापरवाही न करें।
  5. धन, यौवन, जाति और जाति का अभिमान न करें।
  6. शत्रु का सामना करते समय पहले साम, दाम, दंड और भेद का सहारा लें और अंत में आमने-सामने ही युद्ध करें।
  7. किसी की चुगली और निंदा करने से बचें और किसी से ईर्ष्या करने के बजाय मेहनत करें।
  8. किसी भी विदेशी नागरिक, गरीब व्यक्ति, विकलांग एवं जरूरतमंद व्यक्ति की सहायता अवश्य करें।
  9. अपने सभी वादों पर खरा उतरने की कोशिश करें।
  10. स्वयं को सुरक्षित रखने के लिए शस्त्र चलाने और घुड़सवारी का अभ्यास अवश्य करें। आज के संदर्भ में नियमित व्यायाम करें।

Frequently asked questions

गुरु गोबिंद सिंह के बारे में संक्षिप्त में बताइये।

गुरु गोबिंद सिंह महान बौद्धिक उपलब्धियों के व्यक्ति थे। वह फ़ारसी, अरबी और संस्कृत के साथ-साथ अपने मूल पंजाबी से परिचित भाषाविद् थे। उन्होंने सिख कानून को संहिताबद्ध किया।  वे कविता और संगीत लिखने के शौक़ीन थे। उन्होंने गुरु ग्रंथ साहिब को सिख धर्म का पवित्र ग्रंथ घोषित किया था।

गुरु गोबिंद ने कितनी लड़ाई लड़ी?

गुरु गोबिंद सिंह ने मुगल साम्राज्य और शिवालिक पहाड़ियों के राजाओं के खिलाफ 13 लड़ाईयां लड़ीं।

गुरु गोबिंद सिंह कितनी भाषाएं बोल सकते थे?

वह केवल नौ वर्ष के थे जब वे दसवें सिख गुरु बने। उनके पिता गुरु तेग बहादुर ने कश्मीरी हिंदुओं की रक्षा के लिए मुगल सम्राट औरंगजेब के हाथों शहादत स्वीकार करने के बाद उनका उत्थान किया। एक बच्चे के रूप में, गुरु गोबिंद सिंह ने संस्कृत, उर्दू, हिंदी, ब्रज, गुरुमुखी और फारसी सहित कई भाषाएँ सीखीं।

Other Famous Articles
गुरु गोविंद सिंह का इतिहास

1 thought on “गुरु गोविंद सिंह जयंती कब और क्यों मनाई जाता है | Guru Gobind Singh Jayanti”

Leave a Comment