मोक्षदा एकादशी व्रत कथा और क्यों मनाया जाता है | गीता जयंती

मोक्षदा एकादशी को गीता जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। मोक्षदा एकादशी उस दिन को कहते हैं जब श्रीकृष्ण ने पांडवों और कौरवों के बीच युद्ध से पहले अर्जुन को भगवद गीता का ज्ञान दिया था।

यह भी माना जाता है कि मोक्षदा एकादशी किसी को भगवद गीता उपहार में देने का सबसे अच्छा दिन है क्योंकि श्री कृष्ण देने वाले और लेने वाले दोनों पर अपनी कृपा बरसाते हैं। इसलिए,  इस शुभ दिन पर भगवद गीता के आदान-प्रदान को प्रोत्साहित किया जाता हैं क्योंकि यह न केवल वह दिन था जब गीता जीवन में आई, बल्कि एक पवित्र दिन भी होता हैं जब श्री कृष्ण स्वयं अपनी कृपा बरसाते हैं।

मोक्षदा एकादशी क्यों मनाई जाती है?

यह एकादशी हिंदुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिनों में से एक है। इस दिन को जीवन के पालनकर्ता भगवान विष्णु को समर्पित किया जाता हैं। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, भगवान विष्णु हमें जीवन और मृत्यु के चक्र से मुक्त करते हैं। इस दिन विष्णु के अवतार भगवान कृष्ण के सम्मान में उपवास किया जाता हैं। यह उपवास इसलिए भी करते हैं ताकि हमारे मृत पूर्वजों को उनके पापों और अभिशाप से मुक्ति मिले।

यह एकादशी इसलिए मनाई जाती है ताकि लोग एक परिवार के रूप में एक साथ आ सकें और अपने मृत पूर्वजों की मुक्ति के लिए प्रार्थना कर सकें जिससे कि वे एक शांतिपूर्ण जीवन व्यतीत कर सकें।

मोक्षदा एकादशी कथा

मोक्षदा एकादशी व्रत के पीछे की एक रोमांचक कहानी है। श्री कृष्ण और राजा युधिष्ठिर के बीच संवाद यह  बताता है कि लोग क्यों मोक्षदा एकादशी व्रत शुरू करने लगे और कैसे यह व्रत युधिष्ठिर के लिए काफी कुछ समस्याओं को हल करने में सक्षम रहा।

महाराज युधिष्ठिर ने श्रीकृष्ण से कहा, “हे प्रभु! आप तीनों लोकों के स्वामी हैं, सबको सुख देने वाले, जगतपति हैं। मैं आपको नमस्कार करता हूं, हे भगवान! मेरा संदेह दूर करो और मुझे बताओ कि मार्गशीर्ष एकादशी का नाम क्या है?

उस दिन किस देवता की पूजा की जाती है और उसकी विधि क्या है? कृपया मुझे बताओ।” भगवान कृष्ण ने उत्तर देते हुए कहा, “धर्मराज, आपने एक महान प्रश्न पूछा है। इसे सुनने से संसार में आपका यश फैलेगा। मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी अनेक पापों का नाश करने वाली है, इसका नाम मोक्षदा एकादशी है।

इस दिन भगवान विष्णु की धूप, घी का दीपक, सुगंधित फूल और तुलसी की मंजरियों से पूजा करनी चाहिए। अब इस विषय में पुराणों से कथा सुनाता हूँ। चम्पकनगर नामक नगर में वैखानस नाम का एक राजा राज्य करता था। चारों वेदों को जानने वाले ब्राह्मण उसके राज्य में रहते थे। एक बार रात में राजा को स्वप्न आया कि उसके पिता नरक में हैं जिससे वह चौंक गया।

प्रात:काल वह विद्वान ब्राह्मणों के पास गया और अपना स्वप्न बताया। उसने कहा, “मैंने अपने पिता को नरक में तड़पते देखा है। उन्होंने मुझसे कहा, “हे पुत्र, मैं नरक में हूँ। तुम मुझे यहां से मुक्त करवाओ।“ जब से मैंने ये शब्द सुने हैं तब से मैं बहुत घबरा गया हूं, मेरा मन व्याकुल है। मुझे इस राज्य में किसी भी वस्तु से कोई सुख नहीं मिलता, चाहे वह धन हो, पुत्र हो, हाथी हो, घोड़ा हो, आदि।

राजा ने कहा, “हे ब्राह्मण देवताओं! इस दु:ख के कारण मेरा सारा शरीर जल रहा है। कृपया मुझे कोई साधना, दान, व्रत या कोई भी ऐसा उपाय बताएं जिससे मेरे पिता की मुक्ति हो जाए। जो पुत्र अपने माता-पिता को नहीं बचा पाता उसका जीवन व्यर्थ है। एक अच्छा पुत्र जो अपने माता-पिता और पूर्वजों का उद्धार करता है वह एक हजार मूर्ख पुत्रों से बेहतर है। जिस तरह एक चाँद पूरी दुनिया को रोशन करता है, लेकिन हजारों सितारे नहीं कर सकते। ब्राह्मणों ने कहा, “हे राजन! पास में ही पर्वत ऋषि का आश्रम है जो भूत, भविष्य और वर्तमान को जानते हैं। वह आपकी समस्या का समाधान करेंगे।

यह सुनकर राजा मुनि के आश्रम में गया, उस आश्रम में अनेक योगी और मुनि तपस्या कर रहे थे। पर्वत मुनि उसी स्थान पर विराजमान थे। राजा ने मुनि के सामने दंडवत प्रणाम किया। मुनि ने राजा से उसके राज्य के सातों खंडो के बारे में पूछा। राजा ने कहा, “आपकी कृपा से मेरे राज्य में सब कुशल हैं। लेकिन कुछ समस्याएं हैं जिनका मैं सामना कर रहा हूं।”

यह सुनकर पर्वत मुनि ने आंखें बंद कर लीं और ध्यान मग्न हो गए, फिर उन्होंने कहा, “राजन! मैंने योगबल से तुम्हारे पिता के कुकर्मों को जान लिया है। उसने अपनी पत्नी के साथ झगड़ा किया और अपने पिछले जन्म में मासिक धर्म के दौरान जबरन यौन आनंद लिया।

उसने विरोध करने की कोशिश की और उससे अनुरोध किया कि वह उसकी मासिक अवधि को इस तरह बाधित न करे। फिर भी, वह न रुका और न ही उसे अकेला छोड़ा। इस घोर पाप के कारण, तुम्हारे पिता अब ऐसी नारकीय पीड़ा में गिर गए हैं।

तब राजा ने उपाय पूछा। पर्वत मुनि ने कहा, “हे राजन! तुम मार्गशीर्ष मास की मोक्षदा एकादशी का व्रत करो और उस व्रत के पुण्य का संकल्प अपने पिता को दो। इसके प्रभाव से तुम्हारे पिता को अवश्य ही नरक से मुक्ति मिलनी चाहिए। मुनि के ये वचन सुनकर राजा महल में आया और मुनि के कहे अनुसार सपरिवार मोक्षदा एकादशी का व्रत किया।

उन्होंने अपने व्रत का पुण्य अपने पिता को दे दिया। इसके फलस्वरूप उसके पिता को मुक्ति मिल गई और स्वर्ग जाते समय उसने पुत्र से कहा, “हे पुत्र, तेरा कल्याण हो”, यह कहकर वह स्वर्ग को चले गए।

तब श्रीकृष्ण युधिष्ठिर से कहते हैं कि उपवास करने के लिए मोक्षदा एकादशी से अच्छा कोई दिन नहीं है। वे कहते हैं, “जो कोई भी इस एकादशी के व्रत जो कि चिंता-मणि (एक रत्न जो सभी इच्छाओं को पूरा करता है) के समान हैं, को ईमानदारी से करता है, वह विशेष पुण्य प्राप्त करता है जिसकी गणना करना बहुत कठिन है। ऐसी है मोक्षदा एकादशी व्रत की कथा।

मोक्षदा एकादशी का महत्व

महाभारत के अनुसार, यह वह दिन है जब श्री कृष्ण ने पांडवों के राजकुमार अर्जुन को पवित्र भगवद गीता दी थी। अर्जुन कौरवों के विरुद्ध युद्ध में नहीं जाना चाहता था क्योंकि वह अपने परिवार से नहीं लड़ना चाहता था। तभी श्रीकृष्ण ने उन्हें 700 श्लोकों वाली भगवद गीता में ज्ञान की बातें सुनाईं। जिससे पांडवों और कौरवों के बीच चरम युद्ध की शुरुआत हुई जिसका वर्णन महाभारत में किया गया हैं।

गीता के रूप में श्री कृष्ण और अर्जुन के बीच ज्ञान के इस आदान-प्रदान के कारण भी इस दिन को गीता जयंती कहा जाता है।

Other Famous Articles
राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस | National Pollution Control Day

1 thought on “मोक्षदा एकादशी व्रत कथा और क्यों मनाया जाता है | गीता जयंती”

Leave a Comment