छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस | Chattisgarh Sthapna Diwas

हर साल 1 नवंबर को छत्तीसगढ़ राज्योत्सव (छ.ग. स्थापना दिवस) के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इस तारीख को वर्ष 2000 में भारत सरकार ने आधिकारिक तौर पर इसे एक स्वतंत्र राज्य घोषित किया था। छत्तीसगढ़ का पौराणिक नाम कौशल राज्य (भगवान श्री राम की माता) है। भारत के राष्ट्रपति ने 25 अगस्त को मध्यप्रदेश पुनर्गठन अधिनियम 2000 को अपनी सहमति दी और फिर भारत सरकार ने 1 नवंबर 2000 को उस दिन के रूप में निर्धारित किया, जिस दिन मध्यप्रदेश को छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में विभाजित किया जाएगा। तब से, राज्य सरकार छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में हर साल 1 नवंबर से 5 दिवसीय उत्सव का आयोजन करती है।

छत्तीसगढ़ का संक्षिप्त इतिहास | History of Chattisgarh

राज्य की पौराणिक विरासत का पता महाभारत और रामायण काल ​​से लगाया जा सकता है। 14वीं शताब्दी के दौरान, हैहय राजवंश ने छह शताब्दियों तक छत्तीसगढ़ पर शासन किया। चालुक्य वंश ने मध्य युग के दौरान बस्तर में अपना नियंत्रण स्थापित किया। 1741 में मराठों ने हैहय राजवंश को हराकर राज्य पर कब्जा कर लिया। गोंड जनजाति के लोग मराठा शासन के अपराधों के विरोध में थे।

छत्तीसगढ़ वर्ष 1741 से 1845 तक मराठा शासन के अधीन था। यह क्षेत्र 1845 से 1947 तक मध्य प्रांत के छत्तीसगढ़ डिवीजन के रूप में ब्रिटिश शासन के अधीन आया। 1845 में अंग्रेजों के आगमन के साथ रायपुर ने राजधानी रतनपुर पर प्रमुखता प्राप्त की। 1905 में, संबलपुर जिले को ओडिशा में स्थानांतरित कर दिया गया और सरगुजा जिला जो कि पहले बंगाल का हिस्सा था, को छत्तीसगढ़ में स्थानांतरित किया गया।

यह क्षेत्र 1 नवंबर 1956 को राज्य पुनर्गठन अधिनियम, 1956 के तहत मध्यप्रदेश में विलय हो गया और 44 वर्षों तक उस राज्य का हिस्सा बना रहा। इससे पहले, यह क्षेत्र ब्रिटिश शासन के तहत मध्य प्रांत का हिस्सा था। छत्तीसगढ़ राज्य का गठन करने वाले कुछ क्षेत्र ब्रिटिश शासन के अधीन रियासतें थे, लेकिन बाद में उन्हें मध्यप्रदेश में मिला दिया गया।

जिलों का गठन

छत्तीसगढ़ राज्य 1 नवंबर 2000 को अस्तित्व में आया। राज्य के गठन के समय 5 संभागों में 16 जिले हुआ करते थे। अब जिलों की संख्या दोगुनी से अधिक हो गई है। इस साल 5 नए जिले बनने के बाद राज्य में कुल जिलों की संख्या 33 हो गई है। इससे राज्य की प्रशासनिक सख्ती और मजबूत होती जा रही है। 1956 में जब मध्यप्रदेश का गठन हुआ था, तब राज्य में केवल 6 जिले थे, इसमें सरगुजा, बिलासपुर, रायगढ़, दुर्ग, रायपुर और बस्तर वर्तमान छत्तीसगढ़ राज्य का हिस्सा थे।

इसके बाद 1973 में 1 जिला राजनांदगांव एवं 1998 में 8 नए जिले बने, इसमें सरगुजा जिले से कोरिया, बिलासपुर से कोरबा और जांजगीर-चांपा, रायगढ़ से जशपुर, रायपुर से धमतरी और महासमुंद और बस्तर से कांकेर और दंतेवाड़ा बनाया गया। 2007 में, एक नया जिला नारायणपुर बस्तर जिले का विभाजन कर बनाया गया और एक नया जिला बीजापुर दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा जिले के विभाजन से बनाया गया था। 2012 में राज्य में 9 नए जिले बने, फिर सीधे 2020 में 1 जिला बना और 2022 में 5 नए जिले बने।

छत्तीसगढ़ राज्योत्सव मनाने का तरीका

राज्य सरकार छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में हर साल 1 नवंबर से 5 दिवसीय उत्सव का आयोजन करती है। पहला कार्यक्रम साइंस कॉलेज, रायपुर में आयोजित किया गया था और पहली मुख्य अतिथि सोनिया गांधी थीं, लेकिन 2004 से यह कार्यक्रम राज्योत्सव ग्राउंड, अटल नगर में 2018 तक हुआ और 2019 से यह फिर से साइंस कॉलेज, रायपुर में आयोजित किया गया।

3-5 दिनों तक चलने वाले इस उत्सव में एक सांस्कृतिक उत्सव का प्रदर्शन किया जाता है जो छत्तीसगढ़ की संस्कृति और परंपरा और राज्य को विरासत में मिली जनजातियों की भूमिका को दर्शाता है। इस आयोजन के प्रत्यक्ष दर्शकों में कई राजनीतिक हस्तियां जैसे श्री नरेंद्र मोदी, प्रणब मुखर्जी, गायक सुखविंदर सिंह, कृष्णकुमार कुनाथ आदि शामिल है।

छत्तीसगढ़ के कुछ मुख्य तथ्य

  • 1 नवंबर, 2000 को छत्तीसगढ़ को मध्यप्रदेश से अलग कर 16 छत्तीसगढ़ी भाषी जिलों के साथ बनाया गया था।
  • यह 135,190 वर्ग किमी के क्षेत्रफल के साथ भारत का 10वां सबसे बड़ा राज्य है।
  • यह भारत में स्टील और इलेक्ट्रिकल पावर के उत्पादन का एक महत्वपूर्ण केंद्र है, जो भारत में उत्पादित कुल स्टील का लगभग 15% उत्पादन करता है।
  • छत्तीसगढ़ मुख्य रूप से अपनी कृषि के लगभग 80% कार्यबल के लिए प्रसिद्ध है। इसे चावल के उत्पादन के लिए ‘धान का कटोरा’ अर्थ ‘चावल का कटोरा’ के रूप में भी जाना जाता है।

सीमायेंयह सात राज्यों से घिरा हुआ है: मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, उड़ीसा, झारखंड और उत्तरप्रदेश।

राजधानी: रायपुर

भाषा: छत्तीसगढ़ के लोगों की मूल भाषा छत्तीसगढ़ी है, हालाँकि, यहाँ हिंदी भी प्रमुख है।

जनजाति: राज्य में पाई जाने वाली सबसे परिचित जनजातियाँ मरियम, बैगा, कमर, हलबा, गोंड, भुमजा, कवार आदि हैं।

महत्वपूर्ण त्यौहार: आदिवासी समाजों द्वारा मनाए जाने वाले कुछ उल्लेखनीय त्योहारों में बस्तर दशहरा, बस्तर लोकोत्सव, कोरिया मेला, फागुन वडाई, मडई महोत्सव, गोंचा महोत्सव, पोला महोत्सव और अन्य शामिल हैं।

खनिज संसाधन: छत्तीसगढ़ कोयला, लौह अयस्क और डोलोमाइट जैसे खनिजों का एक प्रमुख उत्पादक है। इसके अलावा, राज्य में बॉक्साइट, चूना पत्थर और क्वार्टजाइट के पर्याप्त भंडार उपलब्ध हैं। राज्य में भारत के टिन अयस्क भंडार का 35.4% हिस्सा है। छत्तीसगढ़ भारत का एकमात्र राज्य है जहां टिन सांद्रण का उत्पादन होता है।

महत्वपूर्ण नदियाँ: राज्य में चार मुख्य जलग्रहण क्षेत्र हैं, मुख्य रूप से महानदी, गंगा, गोदावरी और नर्मदा। इसके अंतर्गत महानदी, शिवनाथ, अर्पा, इंद्रावती, सबरी, लीलागर, हसदो, पैरी और सोंदूर प्रमुख नदियाँ हैं।

राष्ट्रीय उद्यान:

  • इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान
  • गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान
  • कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान
  • वन्यजीव अभयारण्य:
  • तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य
  • पामेड वन्यजीव अभयारण्य
  • गोर्मदा वन्यजीव अभयारण्य
  • बादलखोल वन्यजीव अभयारण्य
  • भोरमदेव वन्यजीव अभयारण्य
  • भैरमगढ़ वन्यजीव अभयारण्य
  • सेरामसोट वन्यजीव अभ्यारण्य
  • बरनवापारा वन्यजीव अभयारण्य
  • सीतानदी वन्यजीव अभयारण्य
  • नंदन वन वन्यजीव अभयारण्य
  • अजगर वन वन्यजीव अभयारण्य
  • नरसिंहगढ़ वन्यजीव अभयारण्य
  • उदंती जंगली भैंस वन्यजीव अभयारण्य

टाइगर रिजर्व: राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) ने गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान और तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य के संयुक्त क्षेत्रों को टाइगर रिजर्व के रूप में नामित किया है।

Other Famous Articles:
विश्वास स्वरूपम् | Vishwas Swaroopam (Statue of Belief)

1 thought on “छत्तीसगढ़ स्थापना दिवस | Chattisgarh Sthapna Diwas”

Leave a Comment