Kalika Mandir | कालिका माता मंदिर: चितौरगढ़ – Story and Importance of temple

Kalika Mandir

Kalika Mata Mandir 8वीं सदी में भारत के राजस्थान राज्य के चित्तौड़गढ़ जिले में चित्तौड़गढ़ दुर्ग के भीतर स्थित एक हिंदू मन्दिर है। इस मंदिर में देवी भद्रकाली की पूजा होती है। यह मन्दिर मूलत:पहले सूर्य मन्दिर था। इस मन्दिर का निर्माण सिसोदिया राजवंश के राजा बप्पारावल ने करवाया था। इतिहासकारों के अनुसार मुस्लिम आक्रमणकारियों … Read more

Sun Temple | सूर्य मंदिर, Jhalrapatan | झालावाड़ – Story and Crafting of it

sun temple Jhalrapatan

Sun Temple Jhalrapatan, राजस्थान के झालावाड़ जिले में स्थित है। झालावाड़ जगह को झालरपाटन के नाम से भी जाना जाता है। यह सूर्य मंदिर भगवान शिव को समर्पित मंदिर है। इस मन्दिर को पद्मनाभ मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर 10 वीं शताब्दी में बनाया गया था। कर्नल जेम्सटॉड ने सूर्य … Read more

Trinetra Ganesh Temple | गणेश मंदिर: A Famous Ganesh Temple

Trinetra Ganesh Temple राजस्थान राज्य के सवाईमधोपुर जिले से 12 किलोमीटर दूर रणथंभौर किले में स्थित हैं। त्रिनेत्र गणेश मंदिर का निर्माण कार्य 10वीं सदी में रणथंभौर के राजा हमीर देव चौहान ने करवाया था। इस मंदिर के बारे मे कहा जाता है कि युद्ध के दौरान राजा हमीर देव चौहान के सपने में भगवान गणेश … Read more

तनोट माता मंदिर | Tanot mata Mandir : A Great Temple

Tanot mata का मन्दिर राजस्थान राज्य के जैसलमेर  जिले से लगभग 130 कि॰मी॰ की दूरी पर स्थित हैं।लोक आस्था की देवी आवड़ को तनोट माता के नाम से पूजा जाता है। कई लोगो के अनुसार तनोट माता हिंगलाज माँ का ही एक  है। हिंगलाज माता जो एक देवी शक्तिपीठ भी है वर्तमान में बलूचिस्तान, पाकिस्तान में … Read more

Salasar balaji (सालासर बालाजी), Churu Rajasthan: Bearded Hanuman Temple

Salasar Balaji मंदिर राजस्थान के  चूरू जिले के सालासर कस्बे में सीकर से करीब 50 किमी दूरी पर स्थित है। सालासर बालाजी मंदिर की प्रमुख विशेषता यह है कि यह पूरे विश्व में एकमात्र दाढ़ी मूछों वाले हनुमान जी की प्रतिमा स्थापित है। जो इस मंदिर को पूरे दुनियाभर में अनोखा बनाती है। इस मंदिर … Read more

इस्कॉन मंदिर | ISKCON Mandir – a house for Krishna Consciousness

ISKCON Mandir “हरे कृष्ण आन्दोलन” के तहत बनाया गया मंदिर हैं। देश-विदेश में इसके अनेक मंदिर और विद्यालय है। इस्कॉन मंदिर को अंग्रेज़ी में International Society for Krishna Consciousness कहते हैं। और हिंदी मे इसे अंतर्राष्ट्रीय कृष्णभावनामृत संघ कहते है। इस्कॉन मंदिर की शुरुआत  (ISKCON) न्यूयॉर्क शहर में भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद ने 1966 में प्रारंभ किया था। इस … Read more

कामखेड़ा बालाजी मंदिर | Kamkheda Balaji Mandir: संपूर्ण जानकारी

राजस्थान राज्य के झालवाड़ जिले के अकलेरा कस्बे से लगभग 15 किमी दूर अकलेरा-मनोहर थाना मार्ग पर Kamkheda Balaji का मंदिर स्थित हैं। ऐसा कहा जाता है कि भगवान बालाजी (हनुमान) स्वयं भूत प्रेत और बुरी नकरात्मक शक्तियो के लिए अदालत लगाते है और सजा भी सुनिश्चित करते हैं। प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को इस … Read more

शक्तिपीठ की कहानी | Shaktipeeth – The Story of India’s ‘Shakti Peethas’

हिन्दू धार्मिक ग्रंथो के अनुसार जहां जहां माँ सती  के शरीर के अंग गिरे, वहां वहां Shaktipeeth बन गईं। ये अत्यंत पावन तीर्थ माने जाते हैं। ये तीर्थ पूरे भारत के प्रत्येक कोण प्रत्येक दिशा मे  फैले हुए हैं। शक्तिपीठ (Shaktipeeth) का शाब्दिक अर्थ  “शक्ति” अर्थात देवी दुर्गा से है जिन्हें दाक्षायनी, माँ पार्वती एवं माँ सती के रूप में  पूजा … Read more

देवी माँ के 51 शक्तिपीठ | 51 Shaktipeeth List – Devi Shakti Peethas

पुराणों एवं धार्मिक ग्रंथो के अनुसार माता सती के शव के विभिन्न अंगों से 51 शक्तिपीठों (51 Shaktipeeth List) का निर्माण हुआ। शक्तिपीठ की कथानानुसार राजा दक्ष प्रजापति ने महायज्ञ का आयोजन किया। उस महायज्ञ में राजा दक्ष ने ब्रह्मा,  विष्णु,  इंद्र और अन्य सभी देवी-देवताओं को आमंत्रित किया लेकिन अपने जमाता भगवान शंकर को निमंत्रण नही भेजे।  भगवान शिव की … Read more

मेंहदीपुर बालाजी | Mehandipur Balaji: A Complete Guide to Temple 

Mehandipur balaji

Mehandipur Balaji का मंदिर राजस्थान राज्य के दौसा जिले में स्थित हैं। यह हनुमान जी का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर प्रमुख रूप से बुरी शक्तियों जैसे भूत, पिशाच, प्रेत से बचने के लिए है। मान्यता हैं कि जिस भी  व्यक्ति के ऊपर काली छायी और प्रेत बाधा का साया रहता है, उनसे मुक्ति पाने … Read more