भारत के श्रेष्ठ 10 (दस) जल प्रपात | 10 Best Waterfall of India

This Article is regarding 10 best waterfall of India.

जल प्रपात एक अपरीदरन प्रक्रिया है। जब नियो का पानी पहाड़ के उपर से तेजी से पूरे फोर्स से जब जमीन की और गिरता है तो उसे जल प्रपात कहते है। जल प्रपात का मुख्य उपयोग बिजली उत्पादन मे होता है। इस के अलावा यह घूमने का स्थल भी होता है।

भारत के प्रमुख व श्रेष्ठ (10)जल प्रपात | 10 Best Waterfall of India

10 best waterfall of India is as follow:

  1. महात्मा गाँधी या जोग गोरसपा जल प्रपात- महात्मा गाँधी या जोग गोरसपा जल प्रपात कर्नाटक राज्य के शरवती नदी पर स्थित है। इस जलप्रपात की ऊँचाई 255 मीटर है। यह प्रपात भारत का सबसे ऊंचाई पर स्थित प्रपात है।
  2. चित्रकूट जल प्रपात- यह जल प्रपात छत्तीसगढ राज्य के बस्तर जिले के इंद्रावती नदी पर स्थित है। इस की ऊँचाई लगभग 90 फीट है ।इस का दूसरा नाम न्याग्रा प्रपात भी है।बरसात के समय मे यहाँ दूर दूर से सैलानी और पर्यटक आते है। इस प्रपात की संरचना घोड़े के नाल के समान है। इस प्रपात की खासियत यह है कि यह ऊपर से नीचे की तरफ गिरते हुए तीन बार इस का पानी का रंग बदलता है।

  3. पायकारा जल प्रपात- यह जल प्रपात तमिलनाडु राज्य के नीलगिरी की पहाड़ियो मे स्थित है। इस की ऊँचाई लगभग 200 फीट है। इस जलप्रपात का प्रयोग बिजली उत्पादन के लिए किया जाता है।

  4. हुणडरू जल प्रपात- हुणडरू जल प्रपात राँची के स्वर्णरेखा नदी पर स्थित है। इस की ऊँचाई लगभग 320 फीट है। यह राँची का पर्यटन स्थल है। इस जलप्रपात से औसतन 100 मेगावाट बिजली उत्पादन होता है। इस बिजली उत्पादन परियोजना का नाम सिकीदिरी प्रोजेक्ट है।

  5. शिव समुद्रम जलप्रपात- यह जल प्रपात कर्नाटक राज्य के कावेरी नदी पर स्थित है। इस जलप्रपात की ऊँचाई 90 मीटर है। यह जल प्रपात कर्नाटक राज्य के पर्यटन स्थल मे से एक हो। इस जलप्रपात का शाब्दिक अर्थ है शिव का सागर।

  6. चूलिया जल प्रपात- यह जल प्रपात राजस्थान मे स्थित चंबल नदी पर है।इस जलप्रपात की ऊँचाई 18 मीटर है। इस जलप्रपात के पास ही करोकोडाइल प्वाइंट है। जिस मे बडी संख्या मे मगरमच्छ रहते है ।इसे देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है।

  7. दूध सागर जल प्रपात- यह जल प्रपात कर्नाटक और गोवा राज्य के सीमा पर स्थित मांडवी नदी पर बना हुआ है I इस की ऊँचाई लगभग 310 मीटर है।इस का शाब्दिक अर्थ है दूध का सागर। इस जलप्रपात पर विभिन्न प्रकार के पक्षी देखने को मिलते है।

  8. वसुधारा जलप्रपात- यह जल प्रपात उत्तराखंड के अलकनंदा नदी पर स्थित है। इस की ऊँचाई लगभग 400 फीट है।कहा जाता है कि इस जलप्रपात पर पंच पांडवो मे से सहदेव ने अपने प्राण त्याग दिये थे। इस जलप्रपात का धार्मिक, आध्यात्मिक और आयुर्वेदिक महत्व है।

  9. चचाई जलप्रपात- यह जल प्रपात मध्य प्रदेश के रीवा जिले के बीहड नदी पर स्थित है। इस की ऊँचाई लगभग 130 मीटर है। इस जलप्रपात का पानी एकल बूंद वाला माना जाता है।इस जलप्रपात के पानी को दो भागो मे बाँटते है एक पानी का भाग बिजली उत्पादन मे दूसरा भाग सिंचाई के लिए काम मे लिया जाता है।

  10. धुआंधार जलप्रपात- यह जल प्रपात मध्य प्रदेश के जबलपुर प्रांत के नर्मदा नदी पर स्थित है।इस की ऊँचाई लगभग 15 मीटर है। यह जबलपुर का चर्चित पर्यटक स्थल है। इस जलप्रपात का पानी उपर से गिरने पर धुआँ धुआँ हो जाता है। इस के पानी गिरने की आवाज बहुत दूर से ही सुनाई देती है।

सभी जल प्रपात अपने राज्यो के स्टेशन से करीब है। इन जलप्रपातो को देखने के लिए सड़क मार्ग से भी जाना जा सकता है। इन जलप्रपातो मे बोटिंग, राफ्टिंग का भी मजा लिया जा सकता है।

Other Articles: कश्मीर:धरती पर स्वर्ग | Places to visit in Kashmir- “Heaven of Earth”

Leave a Comment