Ayodhya Ram Mandir निर्माण: सबसे चर्चित आदेश

सुप्रीम कोर्ट के सबसे चर्चित और प्रतीक्षारत फैसले के बाद Ram Mandir निर्माण कार्य शुरू हुए 1 वर्ष से अधिक हो चुका है।
हर देश वासी जानना चाह रहा है कि अयोध्या में राम मंदिर कितना भव्य बन रहा, अभी कितना बन कर तैयार हो गया और कब तक पूरा मंदिर तैयार होगा?   आज हर कोई अयोध्या जाना चाह रहा है और अपने आराध्य प्रभु रामलाल के भव्य मंदिर का निर्माण अपनी आंखों से निहार लेना चाह रहा है, अयोध्या में  राम मन्दिर निर्माण कार्य को देखने आने वालों की लंबी भीड़ है।   अब सरकार ने भी दर्शनार्थियी के लिये विशेष प्रबंध किए है, अब आप जन्मभूमि स्थल पर बेरिकेडिंग से मंदिर निर्माण कार्य को देख सकते है।

कौन कर रहा है मंदिर निर्माण का कार्य?

मंदिर निर्माण का कार्य प्रमुख बहुराष्ट्रीय कंपनी लार्सन एन्ड टुब्रो कर रही है, जबकि राम मंदिर की डिज़ाइन गुजरात के रहने वाले प्रसिद्ध आर्किटेक्ट चंद्रकांत सोमपुरा ने तैयार की है, साथ ही 7 आइआइटी समेत 11 एक्सपर्ट मंदिर निर्माण की तकनीकी देखभाल में लगे है।  

कितना निर्माण पूरा हो गया?

अभी नींव भराई का कार्य चल रहा है उम्मीद है सितंबर 2021 तक नींव भराई का कार्य पूरा हो जाएगा,  

Ram Mandir निर्माण कब पूरा होगा और राम लला कब विराजमान होंगे?

मंदिर निर्माण में अभी लंबा समय है, सितंबर 2021 तक नींव भराई का कार्य, और 2022 तक प्रथम तल का कार्य पूरा हो जाएगा जबकि प्रथम तल की छत और गर्भगृह में राम लला रामनवमी 2023 तक विराजमान हो जाने की संभावना है पूर्ण निर्माण 2025 तक संभावित है।  

अभी रामलला के बाल विग्रह कहाँ विराजमान है?

वर्षो तक टेंट में रहने के बाद रामलला अभी फाइबर से निर्मित अस्थाई मंदिर में विराजमान है, उम्मीद है राम नवमी 2023 तक प्रथम तल निर्माण पूर्ण हो जाने पर  मंदिर के गर्भगृह में प्रतिष्ठित हो जाएंगे।

मंदिर निर्माण के खर्च का प्रबंधन कौन कर रहा है?

माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भारत सरकार ने 2020 में  श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र नाम के ट्रस्ट के गठन किया था यही ट्रस्ट मंदिर निर्माण कार्य का आर्थिक प्रबंधन करता है, जिसके महासचिव चम्पत राय जी है, ट्रस्ट ने फरवरी 2021 में मंदिर निर्माण हेतु चंदा एकत्र करने का महाअभियान चलाया था।  

कितना भव्य होगा राम मंदिर?

वर्षो की प्रतीक्षा के बाद अत्यंत भव्य Ram Mandir का निर्माण कार्य चल रहा है, राम मंदिर 107 एकड़ में निर्माणाधीन है। मंदिर 3 तल का होगा, जिसमे प्रत्येक तल पर 106 खम्बे होंगे इस तरह कुल 318 खम्बो पर पूरा मंदिर निर्मित होगा, प्रत्येक खम्बा 14 से16 फ़ीट ऊंचा होगा और प्रत्येक खम्बे का व्यास 8 फ़ीट होगा मंदिर में एक मुख्य शिखर को मिला कर कुल पांच शिखर होंगे।

Other Articles: झीलो का शहर: भोपाल | Bhopal: City of Lakes

Leave a Comment